blogid : 314 postid : 2222

सरकार की यह कैसी हड़बड़ी

Posted On: 4 Feb, 2013 न्यूज़ बर्थ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

delhi gang rape ordinance16 दिसंबर के रात गैंगरेप के बाद जो आक्रोश लोगों में पैदा हुआ था लगता है सरकार ने उसे गंभीरता से नहीं लिया है. यौन हमलों पर केंद्रीय कैबिनेट द्वारा मंजूर किए गए अध्यादेश पर रविवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के दस्तखत कर दिए हैं. राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद अब यह अध्यादेश पूरे देश में तत्काल प्रभाव में आ गया है. लेकिन संसद को छह सप्ताह के भीतर इसे पास करना होगा. संसद का बजट सत्र 21 फरवरी से शुरू हो रहा है. इस अध्यादेश में महिलाओं के खिलाफ अपराधों के मामलों में नृशंस अपराध के लिए मृत्युदंड सहित दंड बढ़ाए जाने के प्रस्ताव हैं. इन अपराधों में दुष्कर्म, तेजाब हमले, और ताकझांक शामिल हैं.


Read: History of Women Cricket


यौन अपराधों पर क्या होगी सजा

दुष्कर्म और हत्या या पीड़िता का मरणासन्न स्थिति (कोमा) में जाने पर न्यूनतम 20 साल का कारावास या जीवनपर्यत जेल अथवा मौत की सजा.

-एसिड हमले पर दस साल तक के कारावास की सजा.

-महिला को निर्वस्त्र करने पर 3 से 7 साल तक का कारावास.

-ताकझांक के अपराध में 3 साल तक का कारावास.

-पीछा करना या छेड़खानी करने पर न्यूनतम 1 वर्ष तक का कारावास.

-हिरासत में दुष्कर्म पर न्यूनतम दस वर्ष और अधिकतम उम्रकैद.

-जानबूझकर छूना या अश्लील हरकत को अलग से अपराध में शामिल किया गया है।

इस अध्यादेश में ‘बलात्कार’ शब्द के स्थान पर ‘यौन हिंसा’ रखने का प्रस्ताव है, ताकि उसके दायरे में महिलाओं के ख़िलाफ सभी तरह के यौन अपराध शामिल हों.


Read:  सलमान खान: एक था ‘बिगड़ैल’


गौरतलब है कि यह अध्यादेश न्यायमूर्ति जेएस वर्मा की रिपोर्ट पर आधारित है, और इसे केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शुक्रवार को मंजूरी दे दी थी. सरकार ने जो अध्यादेश तैयार किया था उसमे यौन अपराधों का सामना कर रहे राजनेताओं को चुनाव लड़ने से रोकने संबंधी वर्मा आयोग की सिफारिश पर भी कुछ नहीं किया गया है. सरकार ने सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून पर वर्मा समिति की यह सिफारिश भी नामंजूर कर दी थी कि यदि सशस्त्र बल के जवान महिला के खिलाफ अपराध के आरोपी पाए जाते हैं, तो सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून के तहत सुरक्षा नहीं दी जाए.


हालांकि अध्यादेश के प्रभावी होने से पहले कई महिला संगठनों ने राष्ट्रपति से आग्रह किया था कि वह इस पर हस्ताक्षर न करें, क्योंकि इसमें जस्टिस वर्मा आयोग की सिफारिशों को पूरी तरह से स्वीकार नहीं किया गया. लोगों ने यौन अपराधों पर यूपीए सरकार द्वारा लाए गए कानून को ‘जनता के साथ धोखा’ करार दिया है. महिला संगठनों का मानमा है कि कई गंभीर मुद्दों पर सरकार को जिस तरह से ध्यान देना चाहिए वहां उन्होंने हड़बड़ी दिखाई.


Read:

(पढ़ें) न्यायमूर्ति जेएस वर्मा समिति की रिपोर्ट

नाबालिग हैं तो क्या हुआ अपराध की जघन्यता कम नहीं होगी

मिशन 14 के लिए राजनाथ हैं कितने फिट ??


Tag: president, president pranab mukherjee, anti-rape ordinance, president signs ordinance on anti-rape law, rape, ordinance, sexual assault, यौन प्रताड़ना, बलात्कार, अध्यादेश, राष्ट्रपति.



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dinesh के द्वारा
February 4, 2013

कांग्रेस की यूपीए सरकार लचर कानून बनाने के लिए जानी जाती है.

rahul के द्वारा
February 4, 2013

सरकार हड़बहट में कानून इसलिए बना रही है क्योंकि जो विश्वास वह जनता से खो चुकी उसमे सुधार हो सके. लेकिन इस कानून से उनके छवि में तो कोई सुधार तो नहीं होगा.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran