blogid : 314 postid : 2255

आतंकवादी है, फिर भी राजनीति

Posted On: 12 Feb, 2013 न्यूज़ बर्थ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

afjalसंसद पर हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी दिए जाने से पहले भारत के राजनीतिक दल जोड़-तोड़ की राजनीति कर रहे थे अब जबकि उसे फांसी दे दी गई है फिर भी राजनीतिक दल अपनी आदत से बाज नहीं आ रहे हैं. जहां पहले कांग्रेस पर यह आरोप लग रहा था कि वह अपनी धर्मनिरपेक्ष छवि को देखते हुए एक आतंकवादी के फांसी के मुद्दे को टाल रही है और अब उस पर यह आरोप लग रहा है कि कांग्रेस ने अफजल गुरु को फांसी इसलिए दी क्योंकि इस मुद्दे के सहारे उसने 2014 के लिए अपनी जमीन तैयार करने की कोशिश की है.


Read: म्यूचुअल फंड: क्या है इक्विटी और डेट फंड


कांग्रेस पर इस बात को लेकर भी निशाना साधा जा रहा है कि वह अफजल को फांसी देकर विपक्ष के सबसे मजबूत और टिकाऊ मुद्दे को समाप्त कर देना चाहती है. जानकारों का मानना है कि कांग्रेस को इस मु्द्दे से आने वाले लोकसभा चुनाव में फायदा दिख रहा रहा है. हो भी सकता है कि कांग्रेस को यह लग रहा हो कि वह अफजल के फांसी के मुद्दे को और ज्यादा दिन तक लटका नहीं सकती इसलिए भविष्य में चुनाव को देखते हुए फांसी देने का यह समय उसके लिए उचित रहेगा.


वैसे ऐसा नहीं है कि केवल राष्ट्रीय स्तर की पार्टियां ही इस मुद्दे पर अपना नफा-नुकसान देख रही हैं. नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी के नेता और जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला भी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने पर राजनीति करते नजर आए. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि आखिर अफजल को जल्दबाजी में फांसी क्यों दी गई जबकि राजीव गांधी के हत्यारे और मुख्यमंत्री बेअंत सिंह के हत्यारे अभी भी जिंदा है. वहीं इसके विपरीत उमर के पिता फारूख अब्दुल्ला ने साफ कहा कि पूरी प्रक्रिया का पालन करने के बाद ही फांसी दी गई है. शायद उमर को यह लग रहा है कि इस मुद्दे का फायदा राज्य की विपक्षी पार्टी न उठा ले. उमर अपने इस बयान से कुछ अलवागवादी लोगों के लिए हीरो तो बन गए लेकिन देश की जनता को निराश भी कर दिया.


अब सवाल उठता है कि क्या इस संवेदनशील मुद्दे पर पक्ष से लेकर विपक्ष तक को राजनीति करनी चाहिए ? हम यह क्यों भूल जाते हैं कि आतंकवादियों का संबंध किसी भी धर्म से नहीं होता, उनका तो विश्व में अशांति फैलाना ही मुख्य मकसद होता है. अफजल गुरु भी एक ऐसा ही आतंकवादी था जिसने अपने दिल में भारत के लोकतंत्र को तहस-नहस करने के नापाक इरादे पाल रखे थे. अगर वह और उसके साथी इसमें कामयाब हो जाते तो देश का कितना बड़ा नुकसान होता.


आज अगर भले ही देर से अफजल गुरु को फांसी होती है तो उस पर राजनीति न करके देश की न्याय व्यवस्था को सलाम करना चाहिए जिसने ऐसे आतंकवादी के लिए फांसी की सजा मुकर्रर की.


Read:

चुनाव की आहट ने सरकार को किया मजबूर !

History of Cricket: क्रिकेट का इतिहास

Tag: afzal guru execution, afzal guru hanging, omar abdullah, jammu and kashmir chief minister, congress, upa government, afzal guru, manish tewari, अफजल गुरु, अफजल, आतंकवादी, आतंक, संसद हमला.





Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

devdhar के द्वारा
February 12, 2013

अपने देश की व्यवस्था ही ऐसी है जहां पर पार्टियों को धर्म और जाति को छोड़कर कोई और मुद्दा नहीं दिखता

रमेश के द्वारा
February 12, 2013

यह देश के लिए शर्म की बात है कि एक व्यक्ति आतंकवादी है, राजनीति दल उस पर राजनीति कर रहे हैं.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran