blogid : 314 postid : 631112

प्रवचन छोड़ धमकी देते ‘बाबा’

Posted On: 22 Oct, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत में हमेशा से ही संतों, गुरुओं, बाबाओं को समाज में उंचा स्थान दिया गया है. उनका काम न केवल सच्ची शिक्षा देना बल्कि समाज का पथ प्रदर्शक बनकर लोगों का मार्गदर्शन भी करना होता है. लेकिन आज परिस्थितियां बदल चुकी है. धर्म का कारोबार, लोगों की आस्था से खिलवाड़ करने और धर्म की आड़ में गैर-कानूनी काम करने वाले बाबाओं ने अध्यात्म की जगह अपराध को अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है.


narayan saiआज इनका काम लोगों को शिक्षा देना नहीं बल्कि एक पेशेवर गुंड्डे की तरह  डराना, धमकाना और उनकी जिंदगी के साथ खेलना भी है. सूरत रेप केस में पुलिस से भाग रहे नारायण साईं के एक अज्ञात भक्‍त ने सूरत के डीसीपी को जान से मारने की धमकी दी है. सूरत के डीसीपी शोभा भूतड़ा के सरकारी फोन पर एक व्‍यक्ति ने धमकी दी है कि अगर नारायण साईं को ढूंढने का काम बंद नहीं होता है तो उन्‍हें गोली मार दिया जाएगा. इससे पहले भी नारायण साईं के एक भक्‍त ने जोधपुर पुलिस को फोन कर धमकी दी थी.


आपको याद हो कि सूरत की दो बहनों ने नारायण साईं और आसाराम पर बलात्कार करने का आरोप लगाया है. आरोप लगने के बाद से नारायण साईं लगातार पुलिस से भाग रहे हैं. उनकी पुलिस तलाश लगातार जारी है. डीसीपी शोभा ने धमकी मिलने के बाद शिकायत दर्ज करायी गई है और फोन करने वाले व्‍यक्ति की तलाश की जा रही है.


उधर खबर आ रही है कि उत्तराखंड में हरिद्वार पुलिस ने योग गुरु बाबा रामदेव के भाई रामभरत पर अपहरण का मामला दर्ज किया है. भाई रामभरत पर उनके ही पूर्व कर्मचारी नितिन त्यागी ने अपहरण कर बंधक बनाने और मारपीट करने का आरोप लगाया है. इस सिलसिले में रामभरत के चार निजी सुरक्षा कर्मियों को गिरफ्तार किया गया, जबकि रामदेव के भाई की तलाश की जा रही है.


Narayan Sais Supporters Threaten Surat DCP




Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

premraj के द्वारा
January 11, 2014

kya koi bap aapane bete ko galati karane par dat nahi sakat? yah kaisi betuki bate hai ? matalab bapane ne bete ko dhamaki di? midiya wale sahi me bevakuf hai .sachi khabare in ko asharam se mil sakati hai ,lekin sachai midiya ko dikhana nahi chahati.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran