blogid : 314 postid : 639930

शकुंतला देवी: एक औरत जिसने कंप्यूटर को भी फेल कर दिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

80-90 के दशक में भारत के गांव-कस्बों में यदि कोई बच्चा गणित में होशियार हो तो उसके बारे में कहा जाता था कि वह शकुंतला देवी बन रहा है. अब आप सोच रहे होंगे कि ये शकुंतला देवी कौन है? मानव कंप्यूटर के नाम से विख्यात शंकुतला देवी (Shakuntala Devi) भारत की प्रख्यात गणितज्ञ थी. आप यकीन नहीं करेंगे, उन्होंने अपने समय के सबसे तेज माने जाने वाले कंप्यूटरों को गणना में मात दी थी. गत सोमवार यानि कल प्रमुख सर्च इंजन गूगल ने शकुंतला देवी के जन्मदिवस के अवसर पर कैलकुलेटर फॉंट और शकुंतला देवी की हंसती हुई मुखाकृति के साथ उन्हें सम्मानित किया.


shakuntala deviमानसिक गणनाएं पलक झपकते ही कर लेने में माहिर शकुंतला देवी का जन्म 4 नवंबर 1929 को बैंगलुरु में हुआ था. शकुंतला देवी एक गरीब परिवार में जन्मीं थीं जिस कारण वह औपचारिक शिक्षा भी नहीं ले पाई थीं.  उनके पिता सर्कस में एक कलाकार थे. शकुंतला देवी जब तीन वर्ष की थीं तब ताश खेलते हुए उन्होंने कई बार अपने पिता को हराया. पिता को जब अपनी बेटी की इस क्षमता के बारे में पता चला तो उन्होंने सर्कस छोड़ शकुंतला देवी पर सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित करना शुरु कर दिए और उनकी क्षमता को भी प्रदर्शित किया.


Read: एक नए युग की शुरुआत करेगा यह खिलाड़ी



हालांकि अपने पिता के जरिए रोड शो करने वाली शकुंतला देवी को अभी भी दुनिया में पहचान नहीं मिली थी. लेकिन जब वह 15 साल की हुईं तब राष्ट्रीय मीडिया सहित अंतरराष्ट्रीय मीडिया में उन्हें पहचान मिलने लगी. शकुंतला देवी उस समय पहली बार खबरों में आईं जब बीबीसी रेडियो के एक कार्यक्रम के दौरान उनसे अंकगणित का एक जटिल सवाल पूछा गया और उसका उन्होंने तुरंत ही जवाब दे दिया. इस घटना का सबसे मजेदार पक्ष यह था कि शकुंतला देवी ने जो जवाब दिया था वह सही था जबकि रेडियो प्रस्तोता का जवाब गलत.


Read: मेरी लाज का पहरेदार है तू


तब शकुंतला देवी की इस अद्भुत क्षमता को देखकर हर कोई उन्हें समय-समय पर परखना चाहता था. 1977 में शकुंतला देवी को अमेरिका जाने का मौका मिला. यहां डलास की एक युनिवर्सिटी में उनका मुकाबला आधुनिक तकनीकों से लैस एक कंप्यूटर ‘यूनीवैक’ से हुआ. इस मुकाबले में शकुंतला को मानसिक गणना से 201 अंकों की एक संख्या का 23वां मूल निकालना था. यह सवाल हल करने में उन्हें 50 सेकंड लगे, जबकि ‘यूनीवैक’ नाम के ने कंप्यूटर ने इस काम के लिए 62 सेकंड का समय लिया. इस घटना के तुरंत बाद ही दुनिया भर में शकुंतला देवी का नाम भारतीय मानव कंप्यूटर के रूप में प्रख्यात हो गया.


Google Honours Human Computer Shakuntala Devi


Read More:

भारत के महान गणितज्ञ और खगोलशास्त्री आर्यभट्ट

जब शाहरुख एक आम शख्सियत थे






Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran