blogid : 314 postid : 787873

हाई स्कूल पास करते-करते लग गए 93 साल...आंखों से छलकी खुशी

Posted On: 23 Sep, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अंग्रेजी में एक कहावत है, ‘बेटर लेट देन नेवर’. एक 93 साल की दादी, जेन पिकेट पर यह कहावत पूरी तरह सटीक बैठती है. उम्र के इस पड़ाव पर पहुंचने के बाद अब वे शान से किसी को अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में बता सकती हैं. साधारणत: विश्व के अधिकतर देशों में 15 साल की उम्र में बच्चा हाई स्कूल का डिप्लोमा पा लेता है, पर जेन को इसे पाने में 93 साल लग गए. उन्हें स्कूल छोड़ने के 75 साल बाद अब जाकर हाई स्कूल का डिप्लोमा प्राप्त हुआ है.


diploma


वर्जिनिया निवासी जेन पैकेट को सन 1939 में न्यूयॉर्क हाई स्कूल से डिपलोमा मिलना था पर जिस दिन उनका दीक्षांत समारोह था उसी दिन उनके जीवन का एक और महत्वपूर्ण समारोह निर्धारित था और वह था उनका विवाह. जेन ने स्वभाविक रूप से दूसरा समारोह चुना जिस कारण वे अपने हाई स्कूल का डिप्लोमा लेने न हीं पहूंच पाईं. इसके बाद जेन कभी अपना डिप्लोमा लेने नहीं जा सकीं.


र्‍ead: मजे-मजे में कर रहे थे वीडियो शूट लेकिन कैमरे में कैद हुई आत्मा


जेन की बेटी शरोन मिल्स ने 93वें जन्मदिन पर उपहार स्वरूप उनके हाई स्कूल का डिप्लोमा दिलाने का निश्चय किया और उनके स्कूल से संपर्क करके उनके पास उनका डिप्लोमा भिजवाने की व्यवस्था करवाई. जेन जिस हफ्ते 93 साल की हुईं उसी हफ्ते उनका डिप्लोमा उनके पास पहुंचा.


grand mother 1pt


शरोन मिल्स बताती हैं कि इस अवसर पर सभी पड़ोसी उनके घर पहुंचे, पर उनकी मां को कुछ खबर नहीं थी कि क्या होने वाला है. उनकी मां के चचेरे भाई-बहन, नाती-पोते सब घर आए हुए थे पर उन्हें कुछ पता नहीं था कि हम क्या करने वाले हैं.

Read: इस ‘मिस्टीरियस घर’ में पांच दोस्तों ने इंट्री तो ली लेकिन आज तक निकल नहीं पाए (देंखे वीडियो)


घर गृहस्थी में अपनी जिंदगी बिता चुकीं 93 साल की जेन के लिए उम्र के इस पड़ाव पर यह सर्टिफिकेट कहने को महज इक कागज के टूकड़े से ज्यादी कुछ नहीं है, पर तस्वीरें देखकर यह साफ पता चलता है कि उनके लिए यह कागज का टूकड़ा कितना महत्व रखता है. अपनी बेटी और नाती-पोतों के आगे डिप्लोमा ग्रहण करते हुए यह दादी मां बेहद भावुक दिख रहीं हैं. उनके चेहरे पर औपचारिक रूप से हाई स्कूल ग्रेजुएट होने का गर्व साफ देखा जा सकता है.


gm 2 pt


अपने किशोरावस्था के दिनों को याद करते हुए जेन खुद पर हंसते हुए कहती हैं कि तब उनकी लिखाई ‘अपठनीय’ और वर्तनी ‘मौलिक’ हुआ करती थी.

Read more: दिल्ली का दिल बन चुका है नशे का सबसे बड़ा अड्डा… पढ़िए नशे की दुनिया का रहस्य खोलती यह रिपोर्ट

आध्यात्मिक रहस्य वाला है यह आम का पेड़ जिसमें छिपा है भगवान शिव की तीसरी आंख के खुलने का राज

इस शादी में रिश्तेदार हैं, बाराती हैं, दुल्हन है लेकिन दुल्हा अजीब है



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran