blogid : 314 postid : 804021

चुलबुल पांडे नहीं, शिवदीप लांडे हैं असल जिंदगी के दबंग

Posted On: 15 Nov, 2014 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अक्सर लोगों को यह कहते हुए सुना जाता है कि पुलिस घटना-स्थल पर देर से पहुँचती है, रसूखदार अपराधियों को छोड़ देती है या गुनहगारों से पैसा वसूल उन्हें जाने देती है. क्या आप भी ऐसा सोचते हैं? अगर हाँ, तो इस पुलिस अधिकारी के बारे में  पढ़कर आप अपने विचार बदलने को मजबूर हो जाएँगे. ये न रसूख वाले नेता की सुनता है और न अपराधियों की. इसके सामने सारे बहाने बेकार है. उसके लिए अपराध का मतलब सिर्फ अपराध होता है. वो अपराधी को पलक झपकते ही दबोच कर सजा दिलवाने की कोशिश करवाता है. उसके लिए कानून धर्म है और कानून की रक्षा श्रेष्ठ कर्तव्य.



landey



पटना की बेजान सड़कें उस पुलिस अधिकारी के कदमों की आहट सुन फिर से जीवित हो उठी जब पुलिस अधीक्षक के पद की जिम्मेदारी शिवदीप लांडे को दी गई. अपराधियों की शामत लाने वाला यह वर्दीधारी पटना के लिए नया नहीं है. बच्चे-बच्चे उसके नाम से वाकिफ है. पटना समेत बिहार के अन्य जिलों में रहते हुए उसके कारनामे बड़े मशहूर हुए. वहाँ तकरीबन दस महीने की सेवा में ही उन्होंने नकली कॉस्मेटिक उत्पाद विक्रेताओं सहित बड़े-बड़े दवा-माफियाओं के कारनामे उजागर किए.


Read: इस भारतीय बेटी की दिलेरी ने बचाई कई अमेरिकी जानें


पढ़िए, उनके ऐसे ही कुछ मशहूर कारनामे….

पटना में लड़की को बचाया-



landey.



एक बार शहर में एक राह चलती युवती को तीन शराबी परेशान करने लगे. युवती ने बचाव के लिए शिवदीप को फोन लगाया. चंद मिनटों में यह अधिकारी खुद वहाँ पहुँच गया. लड़की को तो बचा लिया गया लेकिन बदमाश भाग निकले. कुछ ही दिनों में उसने बदमाशों को भी धर-दबोचा.


किशनगंज में हेल्मेट की बिक्री बढ़ाई-

किशनगंज जिले का अतिरिक्त प्रभार मिलने पर वहाँ पहुँचे शिवदीप ने हेल्मेट की बिक्री बढ़ा दी. हुआ यों, कि वो मुख्य बाज़ार के चौराहे पर खड़े हो वहाँ से बिना हेल्मेट वाले वाहन चालकों को पकड़ने लगे. जिनके पास हेल्मेट नहीं थे, उनसे वहीं सबके सामने कान पकड़ कर ऊठक-बैठक करवाया गया. शिवदीप लांडे के कड़े तेवरों के कारण ही वहाँ हेल्मेट की खूब खरीद-बिक्री हुई. अब उस छोटे जिले किशनगंज के वाहन चालक बिना हेल्मेट के गाड़ी नहीं चलाते.


मिनटों में घटना-स्थल पर ही हत्यारे को पकड़ा

उन्होंने पटना में एक बड़े कॉस्मेटिक उत्पादों की दुकान से बेचे जाने के लिए रखे नकली सामानों को पकड़ा. कहा जाता है कि इस भंडाफोड़ के बाद राजनीतिक दबाव के कारण उनका स्थानांतरण अररिया जिले में कर दिया गया. अररिया नेपाल की सीमा से सटा जिला है जो तस्करों के लिए महफूज़ समझा जाता है. लेकिन, वहाँ भी उन्होंने कानून के क्रियान्वयन को महत्तवपूर्ण समझा.



landey protest



एक बार अररिया के एक गाँव में हत्या हो गई. खुद घटना स्थल पर पहुँचे लांडे सुरागों का पीछा करते-करते हत्यारे के घर तक पहुँच गए जो वहीं कुछ दूर रहता था. बात ही बात में उन्होंने उससे सच उगलवा कर मामला सुलझा लिया. इसके अलावा कई दिनों से पुलिस के लिए सिरदर्द बनी बैंक डकैती कांड के अपराधियों का पता लगा उन्होंने अपनी कार्यकुशलता से लोगों का मन मोह लिया.


Read: Kiran Bedi Biography: इन्होंने तो इंदिरा गांधी की गाड़ी को उठवा लिया


पटना और अररिया से लांडे के स्थानांतरण-आदेश की जानकारी  के बाद लोग सड़कों पर उतर आए थे जो अपने जिले में पुलिस अधीक्षक के रूप में केवल लांडे को ही देखना चाहते थे. हालांकि, पटना में उनकी वापसी को जनता आगामी चुनाव से जोड़ कर देख रही है लेकिन सच यही है-

कर्तव्यनिष्ठ सर्वत्र पूज्यते




Read more:

क्या दुर्गा को मिली ईमानदारी की सजा या मामला कुछ और है?

क्या यह राजसत्ता का दुरुपयोग नहीं !

अमिताभ बच्चन के घर छापा मारने की वजह से हटाए गए ये अधिकारी




Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

18 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

धर्मेन्द्र सिंह के द्वारा
November 23, 2014

आप का स्वागत है सर पटना जिला में॥

anand kumar के द्वारा
November 19, 2014

if it go like this then there will never be a chance to have crimnal I SALUTE THIS MAN WITH REGARD AND I ASK TO CONTINUE THIS

Vivekpandey के द्वारा
November 17, 2014

सिवदिपलडे हि अश्लि दबंग है पटना मे सवागत है

RAHUL JAIKER के द्वारा
November 17, 2014

इन पुलिस वालो को दिल से सलाम जय हिन्द

Anshumali के द्वारा
November 17, 2014

I hav met him. he is really a very impressive man. once aur school bus driver was overspeeding our school bus and was seen by lande sir and was immediately chased and scolded by him.

pradeepkumar के द्वारा
November 17, 2014

good

Raman Kumar के द्वारा
November 16, 2014

Something is more in our area.. Dr. Kunwar Vijay Pratap Singh, D.I.G. has been transferred from Amritsar, Jalandhar & other cities due to his loyalty, discipline, stickiness.. Sab chor chakke unse darte hai..

Sanjay Choudhary के द्वारा
November 16, 2014

-एसा ही एस़ पी मेरे जिले - अलवर (राजसथान) के हैं– श्री विकास कुमार जी । एकदम दबँग

rajendra vijay के द्वारा
November 16, 2014

hamare desh ko aise police walo ki sakht kami hai aur jo des ki sewa kar rahe hai unhe hum sare dil se dua dete hai ki aage wo aise hi kam karte rahe ,,,,,,,,,,,,,,,

iftekhar ahmed के द्वारा
November 16, 2014

asli dabang to mathura me sub inspector wahid ahmed jinko kosi kala chetra me jaha unki pahli posting thi chulbul panday k naam se aj bhi yaad karte hai..inke kisse to bahut hai lekin time nhi hai …janna hai to kosi me jao ..

sadre alam khan के द्वारा
November 16, 2014

Singham the real hero good luck broder

kiehan gopal kudal के द्वारा
November 16, 2014

समाज कि बदल जाती है,ऎसॆ समाज सॆवक हो तो

D33P के द्वारा
November 16, 2014

भगवान इनको नेताओ और भ्रष्टखोरो की गन्दी नज़र से बचाये

    Anthony India के द्वारा
    November 17, 2014

    aapki baato ko hum khoj hi lenge. tabhi to kaha ki kitna bussy rahti hain aap paper padhane me

Indian के द्वारा
November 15, 2014

Asli Dabaang Afsaar (S.P.) naahi Constable Hotaa hai.. kaam koo anjaam voo Detaa hai.. afsaar too sirf order Dete hai..

    shainik के द्वारा
    November 16, 2014

    to usi ko dedo pura kam s p ka ,ye to apne apne post ki baat he bhai

sourabh singh के द्वारा
November 15, 2014

best of luck for you &your maid. aap ho asli super man .

Gaurav Kumar के द्वारा
November 15, 2014

धऩयवाद िसटी  एसपी सर


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran