blogid : 314 postid : 836917

ये नींद में करते हैं कुछ ऐसा जिसे जान दुनिया है दंग

Posted On: 16 Jan, 2015 बिज़नेस कोच में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


“जब मैं सुबह जगता हूं तो मुझे महसूस होता है कि मैने रात को कुछ किया है पर क्या यह मैं नहीं जानता.” यह कहना है लंदन के रहने वाले ली हैड‌विन का जो दुनियाभर के कलाप्रेमियों और डॉक्टरों के लिए रूचि के विषय बन चुके हैं. ली हेडविन को दुनिया एक पेंटर को तौर पर जानती है, पर यह चित्रकार कोई साधारण चित्रकार नहीं है क्योंकि ली हेडविन नींद में पेंटिंग बनाते हैं.


pnt 2


रात में जब ली गहरी नींद में सो रहे होते हैं उस वक्त वे नींद की अवस्था में ही अपने बिस्तर से उठते हैं और उनके हाथों में थमा ब्रश कैनवास पर बारीक चित्रकारी उकेरने लग जाता है. खास बात यह है कि इस दौरान वे चिकित्सीय अर्थों में सो रहे होते हैं. ली ने अपने बेडरूम को एक गैलरी का रूप देकर वहां अपनी पहली एकल प्रदर्शनी लगायी है.


Read: दिन का ऑटो चालक रात का रॉकस्टार…. म्यूजिक का ऐसा जुनून नहीं देखा होगा आपने


ली का कहना है कि जब वह 4 बरस के थे तो तभी से उन्हें दीवारों पर रंग करना पसंद था. वो तब नींद में चलते थे और ड्रॉइंग बना लिया करते थे लेकिन यहीं आदत किशोराव्यस्था में पैंटिंग के रूप में बदल गई. अब जब वह सुबह उठते तो देखते कि उनके सामने बेहद अच्छी पेंटिंग पड़ी है. वो उन्हें देखकर खुश होते और यकीन नहीं कर पाते. ली जाग्रत अवस्था में पेंटिंग नहीं बना पाते.


img 2 p


डॉक्टरों ने ली को वही ड्रॉइंग जाग्रत अवस्था में बनाने को कहा जैसा उन्होंने नींद में बनाया था लेकिन वो ऐसा नहीं कर सके. डॉक्टरों का कहना है कि उनकी रात की ऐसी हरकतें बचपन में आए किसी सदमे का असर हो सकती है. हो सकता है कि उनके साथ बचपन में ऐसा घटा हो जो उनके दिमाग में पैंटिंग करने की छाप छोड़ गया हो. ली अक्सर नींद से उठने के बाद ज्यादा थके ‌होते हैं क्योंकि वो सोने के बाद पेंटिंग बनाते हैं.


Read: कटे हुए सिर के बावजूद वो हर रात घोड़े पर सवार होकर आता है…जानिए एक खौफनाक हकीकत


ली के कामों को देखकर हाल ही में मर्लिन मुनरो म्यूजियम ने उनकी पेंटिंग्स चार हजार पाउंड से भी अधिक में खरीदा है. ली बताते हैं कि हफ्ते में तीन से चार दिन वे बिस्तर से उठकर पेंटिंग बनाते हैं. “कभी–कभी मैं एक पेंटिंग को 2-3 दिन में पूरा करता हूं.” Next…


Read More:

Raja Ravi Varma: साहित्य और संस्कृति के पात्रों का चित्रण करने वाला पहला कलाकार

इस तस्वीर के कारण क्यों माँग रहा है फेसबुक माफ़ी

यदि आपको भी कुछ याद नहीं रहता तो ये आपके लिए है





Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran