blogid : 314 postid : 836617

इन्होंने तो पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की गाड़ी को उठवा लिया

Posted On: 16 Jan, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जब कभी भी देश में नारी-सशक्तिकरण को लेकर चर्चा की जाती है तब सबके सामने एक ही महिला दिखाई देती है. पहली महिला आईपीएस ऑफिसर किरण बेदी. लोगों के बीच किरण बेदी को लेकर साहस की इतनी गाथाएं हैं जिसे शुरू किया जाए तो खत्म ही न हों. कभी तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गाड़ी को गलत पार्किंग करने के जुर्म में उठवा लेने वाली किरण बेदी ने अपने जीवन में कभी किसी चीज से हार नहीं मानी.


Untitled (2)


आत्मसम्मान और स्वाभिमान से लबरेज किरण बेदी एक ऐसी महिला हैं जिन्होंने समाज में महिलाओं की पारंपरिक छवि को बदलकर आगे निकलने की कोशिश की और सफल भी रहीं. बेदाग पुलिस कॅरियर के साथ उन्होंने समाज सेवा भी करके लोगों की खूब वाहवाही बटोरी.


Read: हौशलों की ऐसी उड़ान


अपने इसी छवि के साथ किरण बेदी आज देश की राजधानी दिल्ली में राजनीति की केंद्र बिंदू बनी हुई हैं. उन्होंने राजनीति में नई पारी की शुरुआत की है. उनकी साफ छवि को ध्यान में रखते हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें अपना चेहरा बनाया है. आगामी चुनाव को देखते हुए कहा जा रहा है कि भाजपा उन्हें मुख्यमंत्री के तौर पर पेश करने वाली है.


kiran bedi10


किरण बेदी का जीवन

किरण बेदी का जन्म 9 जून, 1949 को पंजाब के अमृतसर में हुआ. किरण श्रीमती प्रेमलता तथा श्री प्रकाश लाल पेशावरिया की चार पुत्रियों में से दूसरी पुत्री हैं. किरण बेदी की प्रारंभिक शिक्षा अमृतसर के सैक्रेड हर्ट कॉन्वेंट स्कूल  में हुई. यहीं उन्होंने एनसीसी में प्रवेश किया था. इसके बाद साल 1966 से 1968 तक उन्होंने शासकीय कन्या महाविद्यालय, अमृतसर से अंग्रेजी साहित्य ऑनर्स में स्नातक और इसके बाद पंजाब यूनिवर्सिटी से सन् 1968-70 में राजनीति शास्त्र  में स्नातकोत्तर उपाधि हासिल की.


Read: शर्मनाक! कुत्ते के साथ यौन सम्बन्ध बनाने के लिए पिता ने किया मजबूर


किरण बेदी और पुलिस सेवा

वर्ष 1972 में श्री ब्रिज बेदी से उनकी शादी हुई. इसी साल से उन्होंने अमृतसर कॉलेज में लेक्चरर के तौर पर काम करना शुरू किया. लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था और फिर उसी साल उन्होंने अपनी सेवा भारतीय पुलिस में शुरू किया था. किरण बेदी  ने भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) में चुने जाने के बाद नौकरी करते हुए भी अपनी पढ़ाई जारी रखी और सन 1988 में दिल्ली विश्वविद्यालय से क़ानून में स्नातक की उपाधि हासिल की. किरण बेदी ने राष्ट्रीय तकनीकी संस्थान, नई दिल्ली से 1993 में सामा‍जिक विज्ञान में ‘नशाखोरी तथा घरेलू हिंसा’ विषय पर शोध पर पी.एच.डी. की डिग्री हासिल की.


kiran bedi


इंदिरा गांधी की गाड़ी को उठवा लिया

क्रेन बेदी’ के नाम से मशहूर रहीं किरन बेदी ने पार्किंग नियमों के उल्लंघन पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गाड़ी भी उठवा ली थी और जुर्माना लगाया था. तब यह खबर देश-विदेश में अखबारों की सुर्खियां बनीं थी. उस समय किरण बेदी दिल्ली पुलिस की ट्रैफिक कमिश्नर थीं. कहते हैं कि इस घटना के बाद इंदिरा गांधी ने किरण की सार्वजनिक रूप से तारीफ कर कहा था कि देश को उन्हीं जैसे अफसरों की जरूरत है जो जिम्मेदारी और साहस के साथ ड्यूटी कर सकें.


किरण बेदी ने दिल्ली पुलिस के कई अहम पदों पर कार्य किया है. किरण डीआईजी चंडीगढ़, गवर्नर की सलाहकार, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो में डीआईजी तथा यूनाइटेड नेशन्स में एक असाइनमेंट पर भी कार्य कर चुकी हैं. जाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस ट्रेनिंग, स्पेशल कमिश्नर ऑफ पुलिस इंटेलिजेन्स जैसे कई अहम पदों पर भी वे रह चुकी हैं. इंस्पेक्टर जनरल ऑफ प्रिज़न, तिहाड़ के तौर पर उनके द्वारा किए गए कार्यों की वजह से ही आज तिहाड़ जेल में इतना सुधार है.


किरण बेदी और अन्ना हजारे

किरण बेदी ने दिल्ली पुलिस में ना होकर भी सिस्टम के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध रही हैं. कुछ साल पहले उन्होंने समाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के साथ मिलकर भ्रष्टाचार को लेकर अपनी आवाज बुलंद की थी. वह अन्ना की टीम की एक अहम सदस्या भी रहीं.

अब देखना यह होगा कि सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाने वाली भाजता नेता किरण बेदी अपनी इस नई भूमिका में किस तरह से आम जन की समस्याओं को दूर करने का प्रयास करती हैं.


Read more:

पुलिस हुई हैरान जब देखा इसके बदन पर लिपटे 94 आईफोन

पुलिस अधिकारी को नीचा क्या दिखाया, मंत्री साहब पद से हटा दिए गए

ये क्या! जांच में मोची निकला करोड़पति




Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran