blogid : 314 postid : 860456

रिश्तों की मर्यादा तोड़ी इस पिता ने, बना अपने ही बेटे का भाई!

Posted On: 10 Mar, 2015 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक कुँवारे मर्द की शादी किये बिना संतान पाने की ख्वाहिश और उसके सपनों का साकार हो जाना कुछ वैसा ही है जिस पर आश्चर्य किया जा सकता है. लेकिन उससे भी ज्यादा आश्चर्य यह जानकर होगा कि एक कुँवारा बिना शादी किये अपने ही बेटे का भाई कैसे बन सकता है! रिश्तों की मर्यादा को तोड़कर रिश्तों को बचाने और बढ़ाने की कहानी आपको बहुत अच्छी लग सकती है लेकिन इससे उपजे सवाल आपको सोचने पर विवश जरूर करेंगे….


kyle


24 वर्षीय कैले समलैंगिक होने के बावजूद पिता बनने की चाहत रखते थे. इसलिये उन्होंने किसी युवती से शादी नहीं की. लेकिन समय के साथ उनके मन में पिता बनने की हसरत पलने लगी. अपने मन में पहल रही हसरत उन्होंने अपने परिवारवालों से साझा की. कैले के परिवारवालों में उसके पिता बनने के उपायों पर चर्चा हुई. काफी सोच-विचार के बाद उसकी 46 वर्षीया माँ एन्ने मैरी केसन ने अपने गर्भ से अपने बेटे के बेटे को जन्म देने का निर्णय लिया. अपने बेटे की पिता बनने के सपने को साकार करने के लिये वह अपने गर्भ में बेटे कैले के शुक्राणुओं की फर्टिलाइज्ड अंडों को धारण कर गर्भवती हो गयी.


kyle cason


लेकिन इस मामले ने विवादों को जन्म दिया. विवाद के जड़ में यह थी कि, ‘क्या बेटे के शुक्राणुओं से उसकी माँ के गर्भ में उसके पोते का पलना अनैतिक तो नहीं?’  फिर मामले ने ऐसा तूल पकड़ा कि इसे अदालत में न्यायाधीशों के सम्मुख सुलझाने के लिये लाया गया. लेकिन न्यायाधीश ने उस परिवार के बीच घनिष्ठ सम्बन्धों के आधार पर सरोगेसी के इस मामले को वैध ठहराते हुये यह निर्णय दिया कि, ‘ कानूनी रूप से कैले केसन ही उसके माँ के गर्भ में पले बच्चे का पिता है.’


Read: जब एक मां को पता चला कि उसकी बेटी लेस्बियन है…….वीडियो में देखिए एक फैमिली की उलझन


इस तरह से एक बाप अपने ही बेटे का भाई बन गया. बीते वर्षों में इंग्लैंड में ऐसे कई मामले देखे गये हैं जिनमें बहनों और अन्य महिला रिश्तेदारों के गर्भ में अपने ही परिवार के पुरूष सदस्यों के शुक्राणुओं से गर्भधारण कराया गया है. इससे एक नैतिक सवाल यह खड़ा हो गया है कि क्या विकसित चिकित्सीय पद्धति रिश्तों की मर्यादायें खत्म कर देगी?Next…


Read more:

समलैंगिक होने की सज़ा इतनी भयानक!

समलैंगिक अधिकारों के लिए लड़ रही है ये आठ साल की बच्ची..इसकी कहानी पढ़कर दंग रह जाएंगे आप

समलैंगिक यौन संबंधों से कई कदम आगे हैं पश्चिमी देश




Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Blossom Karpinsky के द्वारा
January 30, 2017

Greetings! Very helpful advice on this article! It is the little changes that make the biggest changes. Thanks a lot for sharing!


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran