blogid : 314 postid : 1122165

उसके आने की आहट सुनते ही भागकर गन्ने के खेत में रात बिताते हैं गांववाले

Posted On: 11 Dec, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

दिसम्बर की कड़कड़ाती ठंड़ में जब किसी भी व्यक्ति का मन अपने गर्म बिस्तर से निकलने का नहीं करता तब उत्तरप्रदेश के महियावार, शाहजहांपुर गांव के लोग आधी रात को अपने घरों से निकलकर गन्ने के खेत में रात बिताने को मजबूर हैं. 12 डिग्री से भी कम तापमान में ये गांववाले अपनी रात खुले आसमान के नीचे बिताने के लिए झुंड़ बनाकर आ पहुंचे. ऐसे में सवाल उठता है कि गांववालों की ऐसी हालत की सुध लेने के लिए स्थानीय प्रशासन ने कोई कदम क्यों नहीं उठाया? लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि खौफ के साए में खेत में छुपने को मजबूर ये गांववाले किसी और के डर से नहीं बल्कि पुलिसवालों से डरकर इधर-उधर भागने को मजबूर हैं.


villagers

Read : एक ऐसा गांव जहां हर आदमी कमाता है 80 लाख रुपए

करीब 10 दिनों से उन्हें अपना जीवन नर्क जैसा अनुभव हो रहा है. गांववालों का कहना है कि पुलिसवाले कभी भी उनके घरों में आ धमकते हैं और फिर गाली-गलौच और मार-पीट का सिलसिला शुरू हो जाता है. साथ ही वे घरों में रखे सामानों के साथ भी तोड़फोड़ शुरू कर देते हैं. दरअसल इस सब की शुरुआत एक घटना से शुरू हुई, एक दिसम्बर के दिन गांव के कुछ नौजवान लड़कों की हाथापाई चुनाव में ड्यूटी दे रहे एक पुलिस अफसर, रामचन्दर यादव से हो गई. किसी बात पर उपजी एक छोटी से बहस गाली-गलौच से हाथापाई में बदल गई. बताया जाता है कि लड़ाई की शुरुआत उस वक्त हो गई जब यादव ने वहां खड़े लड़कों के साथ बदमिजाजी से बात की. इसके जवाब में लड़कों ने भी यादव पर छींटाकशी शुरू कर दी.


Read : बाउंसरों की फैक्ट्री है यह गांव, यहीं से भेजे जाते हैं दिल्ली-एनसीआर में बाउंसर


इसके बाद से उन लड़कों को पकड़ने के लिए यादव ने दमनकारी अभियान छेड़ दिया जिसके तहत करीब 11 लोगों पर एफआरआई दर्ज की गई. जिनमें से 8 लोगों को हिरासत में ले लिया गया. जबकि 3 लोग फरार हो गए. उन 3 आरोपियों को पकड़ने के लिए यादव समेत अन्य पुलिस वाले घटना के बाद से गांव में रोजाना किसी भी समय रेड मार रहे हैं. जिसकी वजह से गांववालों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.  कपकपाती सर्दी में खुले में रात बिताने के कारण महिलाओं और बच्चों को काफी दिक्कतें उठानी पड़ रही है. लोग तेजी से बीमार पड़ रहे हैं, वहीं लोगों की दिनचर्या भी बुरी तरह चरमरा गई है …Next



Read more :

इस गांव के लिए सूर्य की रोशनी बनी अभिशाप, लोगों के चेहरे को कर रही है खराब

इस गांव के लोग परिजनों के मरने के बाद छोड़ देते हैं अपना आशियाना

क्यों हैं चीन के इस गांव के लोग दहशत में, क्या सच में इनका अंत समीप आ गया है



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran