blogid : 314 postid : 1242686

300 करोड़ का बीमा, 68 किलो का सोना और 315 किलो की चांदी, ये है भारत का महंगा मंंडप

Posted On: 5 Sep, 2016 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गणेश चतुर्थी आज से शुरू हो चुकी है. पूरे भारत में बड़ी ही धूमधाम से गणपती बप्पा को पूजा जा रहा है. वहीं दूसरी तरफ मशहूर मुंबई में गणेश उत्सव के आयोजनकर्ताओं ने एक अलग ही रिकॉर्ड बना दिया है. उन्होंने अपने द्वारा स्थापित किए गए गणपति का ही बीमा करवा दिया है. आइए जानते हैंं आखिर क्या है इसकी वजह.


gan



68 किलो के सोने से सजे गणपति

जीएसबी सेवा मंडल के पूर्व अध्यक्ष आरजी भट्ट ने बताया कि भक्तों के लिए इस बार भगवान गणेश की मूर्ति को 68 किलो सोने और 315 किलो चांदी से सजाया गया है.


GSB Manda


300 करोड़ का बीमा

शहर का सबसे धनी मंडल, किंग सर्कल के गौड़ सारस्वत ब्राह्मण (जीएसबी) सेवा मंडल ने भक्तों की सुरक्षा और आभूषणों की सुरक्षा से लेकर प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान के लिए 300 करोड़ का बीमा कराया है. यह रकम पिछले साल से भी 2 करोड़ ज्यादा है.


ganpati idol


इसमें गणपति के सजावट में करीब 25 करोड़, चोरी को कवर करने के लिए 10 करोड़ , आग और भूकंप के लिए 40 करोड़, पब्लिक देनदारी कवर के लिए और बाकी बचे भक्तों, अधिकारियों और कार्यकर्ताओं की सुरक्षा पर 225 करोड़ रखा गया है.


Ganesha


Read: लाख परेशानियों के बाद भी जेल में रहकर की तैयारी और पास की आईआईटी परीक्षा


इसके अलावा मंडल ने इस साल 15 किलो चांदी अपने मंडप पर खर्च किया है.


gsb-mandal



लालबाग के राजा की 51 करोड़ का बीमा

मुंबई के सबसे मशहूर गणपित लालबाग के राजा का 51 करोड़ का बीमा हुआ है. इसके अलावा वडाला के राम मंदिर में एक अन्य गणेश सेवा मंडल ने 105 करोड़ की बीमा पॉलिसी ली है. अंधेरी के राजा के लिए 3.8 करोड़ की बीमा पॉलिसी खरीदी गई है….Next


Read More:

माझी पर इस शेख की पड़ी नजर, पैसे देने के लिए बढ़ाया हाथ

60 अरब की कमाई कर गूगल और ट्विटर को पछाड़ा इन भारतीय भाईयों ने

90 के दशक में ली गई ओबामा की इस तस्वीर पर हुआ विवाद, सोशल मीडिया पर हुई वायरल



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran