blogid : 314 postid : 1253005

RBI गवर्नर के टीचर रह रहे हैं जंगलो में, पुलिस ने जेल में डालने की दी धमकी

Posted On: 13 Sep, 2016 हास्य व्यंग,Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहते हैं एक गुरु की पहचान उसके छात्र से होती है और वो अपने छात्रों को काबिल बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ता है. ऐसी ही एक कहानी है पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन के टीचर आलोक सागर की जिन्होंने अपना जीवन एक आदिवासी गांव को समर्पित कर दिया है.


pis25


कौन है आलोक सागर

प्रोफेसर आलोक सागर ने 1973 में आईआईटी दिल्ली से एमटेक किया जबकि 1977 में टेक्सास के हयूस्टन यूनिवर्सिटी से मास्टार और पीएचडी  की डिग्री ली.


alok


आईआईटी में रह चुके हैं प्रोफेसर

दिल्ली के रहने वाले आलोक पिछले 32 सालों से अपनी सुख-सुविधा को त्यागकर बैतूल जिले में आदिवासी लोगों को शिक्षत करने में जुटे हैं. 1982 में दिल्ली आईआईटी में प्रोफेसर की नौकरी से त्याग पत्र दे दिया. आपको बता दें कि आलोक ने पूर्व रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन को भी पढ़ाया है.


raghu


भाई-बहनों के पास भी है अच्छी डिग्रियां

आलोक सागर के पिता सीमा व उत्पाद शुल्क विभाग में कार्यरत थे. एक छोटा भाई अंबुज सागर आईआईटी दिल्ली में प्रोफेसर है. एक बहन अमेरिका में तो एक बहन जेएनयू में कार्यरत थी. सागर को कई सारे विदेशी भाषाएं आती है. यही नहींं वो आदिवासियों से उन्हीं की भाषा में बात करते हैं.


phd holdewew

Read:  एक ऐसा गांव जहां हर आदमी कमाता है 80 लाख रुपए

25 सालों से रह रहे हैं आदिवासियों के बीच

आलोक सागर 25 सालों से आदिवासियों के बीच रह रहे हैं. उनका पहनावा भी आदिवासियों की तरह ही है. वो यहां गांव में झोपड़ी बनाकर रहते है और बच्चों को पढ़ाते हैं. उनका मकसद है कि यहां के लोगों को अच्छी शिक्षा प्राप्त हो सके ताकि वो देश का भविष्य बन सकेंं.


raghuram-Rajan-teacher


कैसे पता चली उनकी सच्चाई?

उपचुनाव से ठीक पहले निर्वाचन आयोग में आलोक सागर के खिलाफ शिकायत की गई. इस शिकायत के बाद पुलिस ने उनसे गांव छोड़ने को कहा. पुलिस ने जब उन्हें जेल में ड़ालने की बात कही, तो उसके बाद अपने गांव के लोगोंं के कहने पर उन्होंंने अपनी सच्चाई बताई.


prfresso ralok


गांव को हरा भरा बनाने में कर रहे हैं मदद

आलोक इस गांव में 50 हजार पेड़ लगाने की तैयारी कर चुके हैं. वह यहां के लोगोंं को शिक्षित करने के अलावा उन्हें पर्यावरण की सुरक्षा से भी रूबरू करवाते हैं. वे आदिवासियों के सामाजिक, आर्थिक और अधिकारों की लड़ाई लड़ते हैं. इसके अलावा गांव में फलदार पौधे लगाते हैं…Next


Read More:

शिक्षक को खुश करने और परीक्षा में ज्यादा अंक लाने के लिए विद्यार्थियों को करना पड़ा ये सब

लड़की का यह उत्तर पढ़ शिक्षक हुआ शर्मसार

काम शिक्षा के प्रसार के लिए हुआ था इस मंदिर का निर्माण!

शिक्षक को खुश करने और परीक्षा में ज्यादा अंक लाने के लिए विद्यार्थियों को करना पड़ा ये सब
लड़की का यह उत्तर पढ़ शिक्षक हुआ शर्मसार
काम शिक्षा के प्रसार के लिए हुआ था इस मंदिर का निर्माण!



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran