blogid : 314 postid : 1296722

500-2000 के नए नोट यहां हुए बैन, बताया गया गैरकानूनी

Posted On: 1 Dec, 2016 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

8 नवम्बर की रात जैसे ही 500-1000 की नोटबंदी की घोषणा हुई पूरे देश में तहलका मच गया. प्रधानमंत्री मोदी के इस फैसले ने सभी को चौंका दिया. उस वक्त के हालातों का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिसने भी इस खबर को अपने दोस्तों से सुना या सोशल मीडिया पर देखा, उसने इसे कोई मजाक ही समझा, लेकिन जैसे-जैसे लोगों ने न्यूज चैनल्स पर नोटबंदी की ये खबर देखी, सभी को यकीन हो गया. इसके बाद ही शुरू हो गया जंग जैसा एक नया दौर. जिसमें पुराने नोटों की अदला-बदली की जाने लगी.


banned note

देश में ये पहला मौका था, जब 500-1000 के नोटों की कोई वैल्यू नहीं रही. हर कोई इस नोट को लेने से इंकार करने लगा. ये तो बात हुई अपने देश के पुराने नोटों की. चलिए, अब हम आपको बताते हैं नए नोटों का हाल भी 500-1000 के पुराने नोटों की तरह हो चला है. ये बात सुनकर शायद आपको यकीन न हो, लेकिन नेपाल सरकार ने 500-2000 के नए नोटों को गैरकानूनी बताकर इसके चलन से साफ इंकार कर दिया है.


new note 1

नेपाल राष्ट्रीय बैंक का कहना है कि ये नए नोट अनौपचारिक है, इसे हमारे देश में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता. जब आरबीआई ने नए नोट नेपाल राष्ट्रीय बैंक को सौंपे तो उन्होंने लेने से साफ इंकार कर दिया. इस बारे में नेपाल राष्ट्रीय बैंक के प्रवक्ता का कहना है कि ‘जल्द ही इस मसले को सुलझा लिया जाएगा. हम ‘फेमा’ से मिलकर बात करेंगे.

नेपाल एक ऐसा देश है जहां पर भारतीय केरेंसी सबसे ज्यादा चलती है. पिछले साल प्रधानमंत्री मोदी के नेपाल दौरे के बाद नेपाल सरकार ने भारत से 25 हजार अधिकतम राशि लेकर जाने का प्रावधान बनाया था. नए नोट को प्रतिबन्धित करने के बाद नेपाल में व्यापार पर खास प्रभाव पड़ा है….Next


Read More :

नोट बैन से मुश्किल में पड़े ये 7 फिल्मी सितारे, उधार मांगकर चला रहे हैं काम

2000 के नोट बिक रहे हैं ऑनलाइन, 20 रुपए के नोट बिके 900 में!

इनके ऊपर नोट बैन का कोई असर नहीं, 500 करोड़ की शाही शादी और 17 करोड़ की साड़ी



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran