blogid : 314 postid : 1350119

एक और दशरथ मांझी : 27 साल में अकेले खोदा तालाब, सरकार ने नहीं उठाया था कोई कदम

Posted On: 3 Sep, 2017 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आपने दशरथ मांझी को पहाड़ की सीना काटकर रास्ता बनाने की खबर सुनी होगी. असली हीरो दशरथ पर एक फिल्म भी बन चुकी है. अब ऐसी ही खबर सुनने को आ रही है कि एक बार फिर से एक और असली हीरो ने करीब 27 साल की कड़ी मेहनत के बाद तालाब खोद दिया है. छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के एक व्यक्ति ने अपने गांव में पानी की समस्या को दूर करने के लिए जमीन खोदकर तालाब बना डाला. सजा पहाड गांव के श्याम लाल 15 साल के थे जब उन्होंने यह अविश्वसनीय काम अपने कंधों पर लिया.


real hero

गांव के लोगों के मुताबिक, श्याम लाल को तालाब बनाने में 27 साल लग गए. उल्लेखनीय है कि गांव में पानी की कमी थी. गांववालों ने बार-बार सरकार से गुहार लगाई लेकिन सरकार की ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया. गांव में पानी की इतनी दिक्कत थी कि पानी लेने के लिए करीब 20 किलोमीटर जाना पड़ता था. जानवर की मरने की तादाद में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही थी. ऐसे में 15 साल के श्याम लाल आगे आए.


pond 1

उन्होंने एक खास जगह का चुनाव किया और खुदाई शुरू कर दी. गांव के लोग उन पर हंसते थे, लेकिन श्याम लाल ने जो ठाना वह कर दिखाया. श्याम लाल अब 42 साल के हो चुके हैं और इनके खोदे हुए तालाब से आज सभी लोग पानी का इस्तेमाल करते हैं.

श्यामलाल को अपने इस कारनामे के लिए महेंद्रगढ़ के विधायक ने उन्हें सम्मानित किया. श्याम लाल का कहना है कि शुरूआत में उनकी मदद के लिए कोई भी साथ नहीं आया, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और तालाब खोद दिया. …Next


Read More:

किसी पर रेप तो किसी पर सेक्‍स रैकेट चलाने का लगा आरोप, ऐसे संगीन मामलों में जेल जा चुके हैं कई ‘बड़े बाबा’

देश की इन पुरानी समस्‍याओं के कारण बाबाओं की ‘शरण’ में जाते हैं लोग!

पिता और भाई बॉलीवुड के बड़े स्‍टार पर इन्‍होंने पॉलिटिक्‍स में बनाया कॅरियर, जानें प्रिया के बारे में खास बातें



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran