blogid : 314 postid : 1359244

सीएम से मिलने गई गोल्ड मेडलिस्ट महिला खिलाड़ी से पुलिस ने की बदसलूकी

Posted On: 9 Oct, 2017 Hindi News में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हम उस समाज का हिस्सा हैं, जहां पर मूर्ति को देवी का दर्जा दिया जाता है लेकिन जीती-जागती लड़कियों को इंसान तक नहीं समझा जाता. वहीं अपने हक के लिए बोलती लड़कियां सभी को बुरी लगती हैं. बचपन में जब कोई लड़की ज्यादा बोलती है, तो उसे ये कहकर चुप करवा दिया जाता है कि कम बोलो वर्ना ससुराल में पहले ही दिन बाहर निकाल दिया जाएगा. दूसरों से सवालात करती लड़की खुद कई सवालों में घेर ली जाती हैं. लेकिन लड़कियों को आगे बढ़ाने और समाज को बेटियों का महत्व बताने के लिए ‘बेटी बचाव, बेटी पढ़ाओ’ जैसे जुमले भी गढ़े गए हैं, ये जुमले कभी-कभी खुद को दबा-कुचला और किताबों तक सीमित होने का अनुभव करते होंगे.


priyanka 2

हरियाणा में हुई एक ताजा घटना में इस जुमले की पोल खुलती दिख रही है. हरियाणा की एक खिलाड़ी प्रियंका की आर्थिक स्थिति बदहाल है. गोल्ड मेडलिस्ट कराटे प्लेयर, प्रियंका पांच बार अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं. इसके बाद भी उन्हें वो सम्मान नहीं मिला, जिसकी वो हकदार हैं. अपनी इसी स्थिति को बताने और सरकारी नौकरी की गुहार लगाने लिए प्रियंका हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर से मिलने एक कार्यक्रम में गई थीं, लेकिन मिलना तो दूर उन्हें खट्टर के आसपास भी नहीं भटकने दिया गया.


logo

प्रियंका के मुताबिक वो पांच बार अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं. उन्हें गोल्ड मेडल भी मिला है. उनके बेहतरीन प्रदर्शन को देखते हुए राज्य सरकार ने उन्हें सरकारी नौकरी देने का वादा किया था, लेकिन अभी तक वो वादा पूरा नहीं किया गया. प्रियंका एक बेहद गरीब परिवार से ताल्लुक रखती हैं. पूरे परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी उनपर हैं, इसलिए वो आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए नौकरी के लिए गुहार लगा रही हैं. प्रियंका का कहना है कि जब वो सीएम खट्टर से मिलने जा रही थी, तब वहां खड़े पुलिसकर्मियों ने उन्हें अपशब्द कहते हुए उनके साथ धक्का-मुक्की की. वहां खड़े लोगों ने भी कोई मदद नहीं की. घटना का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर सरकार के दोहरे रवैए और अधिकारियों की मानसिकता पर पोल खोलकर रख दी है.



yojana


घटना के बाद लगे मुर्दाबाद के नारे

एक तरफ जहां सरकार खुद को ‘जनसेवक’ कहती हैं, वहीं दूसरी तरफ जनता को इनसे मिलने के लिए पुलिस प्रशासन से लात-घूसे तक खाने पड़ते हैं. ऐसे में यही कहा जा सकता है कि अपनी बात कहने के लिए लोगों को अभी लम्बा सफर तय करना पड़ेगा. वहीं, इस शर्मनाक घटना के बाद वहां मौजूद लोगों ने सरकार विरोधी नारे भी लगाए.

अब देखना ये है, सीएम खट्टर तक ये बात कब तक पहुंचती है…Next


Read More:

मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर बाप-बेटे में ‘जंग’

वरुण गांधी के 5 बयान, जो बता रहे BJP से बढ़ रही उनकी दूरी

Big Boss 11 : एक एपिसोड के लिए फिल्मों से इतने गुना ज्यादा फीस लेते हैं सलमान!



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran